सड़क पर

सड़क पर

सुबह के धुंधलके में
नए शहर की इस नई सड़क पर
मैं दौड़ रहा हूँ.

चिकनी, कठोर सड़क
की कठोरता
समा रही है पैर में
हर पदचाप के साथ.
थप – थप
सड़क पीट रही है पाँव को.
पेशियाँ कस रही हैं
पैर की हड्डियाँ
टीस – टीस जा रही हैं.
इतनी कठोरता के आदी
मेरे पैर तो नहीं
यह सड़क शायद
मशीनों के लिए ही बनाई गई है.

सड़क के हाशिये
पर पड़ी है कुछ मिट्टी.
एक झीना परदा
जो कठोरता को कम नहीं करता
बल्कि जिसकी फिसलनी सतह
उम्मीदें तोड़ सकती है
उन धावकों की
जिनके पैर
कुछ नरमी की आस में
उसकी तरफ़ मुड़ जाते हैं.

सड़क की पूरी लम्बाई
और पूरी चौड़ाई
ढकी  है एक कठोर,
सभ्य, एकसार आवरण से.
धरती की मुलायम, अल्हड़ ऊँच – नीच
पर अब तक चले मेरे पैर
यहाँ दर्द करते हैं
पर मैं रुक नहीं सकता:
क्योंकि रुकते ही मुझे कुचल देंगे
मेरे पीछे आ रहे वे मज़बूतपाँव
जो हर पल
मुझसे आगे निकलने को बेकरार हैं.

Categories: Poems | 6 Comments

Post navigation

6 thoughts on “सड़क पर

  1. kya baat hai.

  2. great read🙂 liked it ..

  3. dhanyawaad🙂

  4. Looks like you felt every moment of your experience starting from placing your foot, to increasing your pace, and feeling the impact you gave on the road and the one you got from it… wonderful… the deeper we go, the more we realize the beauty and simplicity of the things…
    Wonderful… I could momentarily live the experience of walking on the road!🙂

  5. Good stuff man ! My hindi’s weak …
    But I put fight in reading this one🙂 the quality was the incentive !

  6. Abhishek, yeah, life is lived in these small details🙂

    Ghost Runner, gratified!🙂

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: