Monthly Archives: June 2010

Bheeg gaya mera Mann

The Choice of music surely depends upon one’s moods, but Kailash Kher seems to have something for every mood of mine! If you ask me my fav musician, 9 out of 10 times I would say it was him.
‘Bheeg gaya mera mann’ is the latest favorite of mine, from Kailash’s Album ‘Yatra – Nomadic Souls’. I’ve been listening to it for some time, but it grew on me all the more when the season of the mating of sky and earth started. Just like ‘Chaandan mein’ was my fav during the scorching summer months. Talk about songs for the seasons and times of the day! That’s the magic of Kailash.
Try listening to or singing this song while riding in the rains. I can’t help doing that, and can’t help feeling on top of the clouds every time I do that!
Here’s the lyrics of ‘Bheeg gaya mera Mann’.

Song Name: Bheeg Gaya Mera Mann
Composed by: Kailash Kher, Naresh and Paresh Kamat
Lyrics: Kailash Kher

तीखी-तीखी नुकीली सी बूँदें
बहके बहके से बादल उनींदे
गीत गाती हवा में, गुनगुनाती घटा में
भीग गया… मेरा मन (2)

मस्तिओं के घूँट पी
शोखियों में तैर जा
इश्क की गलियों में आ
इन पलों में ठहर जा
रब का है ये आइना
शक्ल हाँ इसको दिखा
ज़िन्दगी घुड़दौड़ है
पल दो पल ले ले मज़ा..

चमके चमके हैं झरनों के धारे
तन पे मलमल सी पड़ती फुहारें
पेड़ हैं मनचले से ,
पत्ते हैं चुलबुले से
भीग गया… मेरा मन

डगमगाती चाँदनी
हँस रही रही है जोश में
और पतंगे गा रहे
राग मालकोस में
बन के नाचे बेहया
बेशरम पगली हवा
ज़िन्दगी मिल के गले
हँस रही दे दे दुआ..

बरसे बरसे रे अम्बर का पानी
जिसको पी पी के धरती दीवानी
खिलखिलाने लगी है ,
मुस्कुराने लगी है
भीग गया… मेरा मन!
Categories: Music | 4 Comments

Create a free website or blog at WordPress.com.